हस्तशिल्प

गांवों में ज्यादातर  हस्तशिल्प  ही कुटीर उद्योग  ज्यादातर  पीढ़ी दर  पीढ़ी  चलते  हैं।  कुटीर उद्योग के इस समूह के अंतर्गत आने वाले सामान हैं,  सूती वस्त्र, बर्तनों, खाद्य और गैर-खाद्य तेलों, धातु के बर्तन, बढ़ई के टुकड़े, जूते, बास्केट, कंबल इत्यादि,  जो कि गांव समुदाय के विशेष वर्ग के मालिक हैं और स्वामित्व वाले हैं। अन्य हस्तशिल्पों की तुलना में  कपड़ा या वस्त्र उद्योग  श्रमिकों की सबसे बड़ी संख्या को रोजगार प्रदान करते हैं।

हथकरघा उद्योग

धोती, बिस्तर कवर, चादर , टेबलक्लॉथ,  तौलिए आदि 6,600 इकाइयों में फ्लाई-शटल लूम  के उपयोग से तैयार किए जाते हैं। यह व्यापार मुख्य रूप से गोरखपुर, पिपरौली , बरहलगंज और रिगोली बाजार में स्थित है। पावर-लूम  उद्योग में लगभग आधी इकाइयों को सहकारी समितियों के रूप में संगठित किया गया है।

कपास यार्न व्यापार में इस्तेमाल होनेवाला  मुख्य कच्चा माल है। हाल के वर्षों में इसकी दुर्लभ वजह से उद्योग के लिए कुछ झटका लगा, सरकार ने कमी की भरपाई करने के लिए कदम उठाए हैं।

जिले की महिलाओं द्वारा कपास यार्न गांवों में भी बनाया  जाता  है, इसके  प्रशिक्षण की  सुविधा भी प्रदान की जाती हैं। उन्हें कपास मिलती है और खादी ग्राम उद्योग आयोग यार्न स्पिनरों को खरीदता है। लेकिन ग्रामीण स्पिनरों द्वारा उत्पादित सूती-धागा आम तौर पर मानक के अनुसार  नहीं होते हैं और सालाना उत्पादन के लिए सूत की मात्रा भी कम है।

ऊनी कंबल

कारीगरों, ऊन से कंबल की बुनाई के शिल्प में निपुण, तहसील बांसगांव में  पांडेपुर और गोरखपुर  में कंबल का उत्पादन करते हैं। जिले की भेड़ों से खरीदे जाने वाले ऊन को कच्चे माल के रूप में उपयोग किया जाता है, कभी-कभी राज्य के पहाड़ी जिलों से बेहतर गुणवत्ता का ऊन आयात किया जाता है। कंबल जो मोटे होते हैं, उन्हें जिले के ग्रामीणों को बेच दिया जाता है।

 स्थानीय निर्मित हस्तशिल्प वस्तुएं

स्थानीय निर्मित हस्तशिल्प वस्तुएं

दरी व चादरें - स्थानीय  उद्योग

दरी व चादरें – स्थानीय उद्योग