शिक्षा

समय के साथ शिक्षा के क्षेत्र में प्रगति होने के कारण शिक्षा विभाग को प्राथमिक शिक्षा, माध्यमिक शिक्षा, उच्च शिक्षा तथा तकनीकी शिक्षा में विभाजित किया गया। इन विभागों की अधिकारिक वेबसाइट से विभाग संबंधी जानकारी प्राप्त की जा सकती है।

  1. प्राथमिक शिक्षा
  2. माध्यमिक शिक्षा
  3. उच्च शिक्षा
  4. तकनीकी शिक्षा

मानव संसाधन विकास के अभिन्न अंग, शिक्षा, के क्षेत्र में गोरखपुर विश्वविद्यालय की स्थापना ने गोरखपुर जनपद के युवाओं प्रोत्साहित किया। गोरखपुर में उत्तर प्रदेश के पूर्वी क्षेत्र के छात्रों के लिए आवासीय विश्वविद्यालय, इंजीनियरिंग कॉलेज, मेडिकल कॉलेज और डिग्री कॉलेज हैं।

1. दीन दयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय

दी.द.उ. गो0

दीन दयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय की स्थापना  1957 में हुई थी।   वर्तमान में लगभग 320 शिक्षकों ,  करीब 30  हजार छात्र नामांकित हैं,  जिन्हें  विश्वविद्यालय   सामान्य पाठ्यक्रमों के अलावा,  जैव प्रौद्योगिकी, जैव रसायन, कंप्यूटर, पत्रकारिता, ललित कला और संगीत और एमबीए में पाठ्यक्रम प्रदान करता है। यह अकादमिक स्टाफ कॉलेज (यूजीसी के अधीन) और इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (इग्नू) का भी केंद्र है। इस विश्वविद्यालय  से  पढ़े हुए,   राज्य के दो मुख्य मंत्री  हैं –  वीर बहादुर सिंह और श्री राजनाथ सिंह  और यहाँ के विभिन्न  संकाय सदस्य अनेक विश्वविद्यालयों में सम्मान के साथ उप-कुलपति का पद , उच्च शिक्षा आयोग के निदेशक, राजर्षि टंडन ओपन यूनिवर्सिटी, माध्यमिक शिक्षा आयोग  में नियुक्त हैं  – प्रो आरपी रस्तोगी जी , प्रो.  नागेंद्र (लखनऊ), प्रो. यू.पी. सिंह (पूर्वांचल यूनिवेर्सिटी ), डॉ.  विद्या निवास मिश्रा (काशी विद्या पीठ), प्रो. वी.एस. पाठक, प्रो. राधा मोहन मिश्रा, प्रो. रेवती रमन आदि।

2. बी.आर.डी. चिकित्सा महाविद्यालय

वर्ष 1969 में स्थापित, यह उत्तर प्रदेश का  छठवां  मेडिकल कॉलेज है। इसका नाम एक प्रमुख सामाजिक कार्यकर्ता बाबा राघव दास के नाम पर है, जो एक  स्वतंत्रता सेनानी और इस क्षेत्र के सर्वदया नेता थे  । कॉलेज गोरखपुर रेलवे स्टेशन से 8 किमी दूर स्थित है। प्रोफेसर पी.एल. शुक्ला, संस्थापक प्रिंसिपल और एनाटॉमी के प्रोफेसर थे।    बी.आर.डी. मेडिकल कॉलेज  गोरखपुर विश्वविद्यालय  से सम्बद्ध है। 1974 में  शिक्षण के साथ  इस परिसर में  ‘नेहरू चिकित्सालय ‘  अस्तित्व में आया। इसमें चिकित्सा सेवाओं के विभिन्न विषयों के लिए 650 इनडोर  बेड और  बाह्य रोगी  विभाग हैं जहाँ मरीज़  देखे जाते  हैं।

1980 से, कॉलेज में  पोस्ट ग्रेजुएट ट्रेनिंग प्रोग्राम भी चलाया  जा रहा है। एम.एस.  व एम.डी. की डिग्री के लिए   विभिन्न पाठ्यक्रम  एनाटॉमी, सर्जरी, ऑर्थोपेडिक्स, ऑब्स और गायनोकोलॉजी, ऑपटमोलॉजी, फिसिओलॉजी, फार्माकोलॉजी, पैथोलॉजी, एनास्थिसियोलॉजी, बाल रोग, चिकित्सा, त्वचा और वी.डी. । इन पाठ्यक्रमों के अलावा, यह उपरोक्त सूचीबद्ध विभागों के डिप्लोमा पाठ्यक्रम भी चलाता है।

3. एमएमएम विश्वविद्यालय की प्रौद्योगिकी

एम.एम.एम.यू.टी.

मदन मोहन मालवीय इंजीनियरिंग कॉलेज की स्थापना  1962 में  हुई थी  जिसका  पुनर्गठन  बाद  में मदन मोहन मालवीय प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय,   शिक्षण एवं  अनुसंधान  रूप में उत्तर प्रदेश सरकार ने वर्ष 2013 में किया था अधिक जानकारी के लिए कृपया http://www.mmmut.ac.in  वेबसाइट देखें।

4. पॉलिटेक्निक

1. सरकारी पॉलिटेक्निक (बॉयज )
2. सरकारी पॉलिटेक्निक (गर्ल्स)
3. एम.पी. पोलिटेक्निक

5. अन्य संस्थाएं

1. प्रौद्योगिकी और प्रबंधन संस्थान, गीडा  गोरखपुर

2. पूर्वांचल  इंस्टिट्यूट ऑफ डेंटल कॉलेज, गोरखपुर

3. बुद्ध इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, गोरखपुर

4. सुयश  इंस्टीट्यूट ऑफ इन्फोर्मेशन टैक्नोलॉजी, गोरखपुर

6. डिग्री कॉलेज (शहर में प्रमुख)

सेंट एंड्रयूज कॉलेज, सबसे पुराना और चर्च मिशनरी सोसाइटी द्वारा 1899 में स्थापित
दिग्विजयनाथ पी.जी. कॉलेज का नाम गोरखनाथ मंदिर के महंत दिग्विजयनाथ के नाम पर है।(1969 में स्थापित)
डी.ए.वी. कॉलेज
महात्मा गांधी कॉलेज
गंगोत्री देवी महिला कॉलेज
चंद्र कनती रामवती देई  महिला कॉलेज

7. इंटर कालेज  (मान्यता प्राप्त प्राथमिक एवं इन्टर  विद्यालयों की सूची)

जवाहर नवोदय विद्यालय
जुबली इंटर कॉलेज
सेंट एंड्रयूज इंटर कॉलेज
डी.ए.वी. इंटर कॉलेज
एमपी। इंटर कॉलेज
ए डी गर्ल्स इंटर कॉलेज
कार्मल गर्ल्स इंटर कॉलेज
विकास भारती स्कूल
केंद्रीय विद्यालय
सेना स्कूल
लिटिल फ्लॉवर स्कूल
जी.एन. नेशनल स्कूल
सेंट पॉल स्कूल
स्प्रिंगर स्कूल
सेंट जोसेफ स्कूल
केंद्रीय अकादमी
सरस्वती शिशु मंदिर स्कूल
रैमपस स्कूल
नेवल्स अकादमी….